You are currently viewing Organizing in Management in Hindi (प्रबंधन में आयोजन क्या है ?)

Organizing in Management in Hindi (प्रबंधन में आयोजन क्या है ?)

आज हम जिस Organizing के बारे में पूरी तरह से पढ़ेंगे। Organizing Management  का सबसे Important Function है। यदि आप Business के Student है, तो आपको इसके बारे में पूरी जानकारी होना बहुत अधिक आवश्यक है। तो सबसे पहले जान लेते है, इसमें क्या क्या हम पढ़ेंगे ?

What is organizing in Hindi ( आयोजन क्या है ? ) , Characteristics of organizing in Hindi ( आयोजन की विशेषताएं), Process of organizing in Hindi ( आयोजन का तरीका), Advantages of organizing in Hindi ( आयोजन के फायदे), Disadvantages of organizing in Hindi ( आयोजन के नुकसान) आदि को अच्छे से पढ़ेंगे।

What is Organizing in Management in Hindi

Organizing management का दूसरा Function है। जो की planning के बाद आता है। इसका मुख्य उद्देस्य Resources को arrange करता है और जो Planning की है उसे कार्यान्वित करना जिसकी मदद से हम अपने goal को हासिल कर सकतें है। इसमें उन तरीको को शामिल करना होता है जिनके साथ प्लान को लागू किया जा सके।

Organizing मतलब jobs और working relationships को परिभाषित करना और सबको अलग अलग plan के साथ अलग अलग task देना, arranging and allocating resources को arrange और allocate करना, जिम्मेदारियों के साथ एक structure design करना,activities को schedule करना,ताकि काम में सरलता और effectiveness बनी रहे।

Characteristics of organizing in Hindi ( आयोजन की विशेषताएं)

1. Division of Work

Organization में बहुत से व्यवसाय के काम होते है। जो की अलग अलग होते है। ऐसे में विभिन्न व्यक्तियों को उनकी कुशलता के अनुसार काम दिया जाता है। जिससे काम पूरी Quality के साथ हो सके।

2. Coordination

organization में सभी अलग अलग व्यक्तियों को अलग अलग काम दिया जाता है। जब logically और sequence से सारे Task दिए जाते है तो इसका फर्क उद्देश्य में दिखता है, इसलिए coordination जरूरी है।

3. Common Objectives

सभी उद्देश्यों को सामान्य और स्पष्ट रूप से परिभाषित करने की आवश्यकता होती है। जिससे उपलब्धि प्राप्त करने में मदद मिलती है।

4. Authority और Responsibility Structure

एक effective authority और responsibility structure के लिए सभी की position specified होती है, जो कि कर्तव्यों का पालन करते हुए responsibilities को मनाता है।

5. Communication

संचार की techniques, flow और importance organization के सारे व्यक्तियों द्वारा जानी जाती है । जो की Organization में सभी व्यक्तित्यों के साथ एक अच्छा Relationship Create करता है।

Process of Organizing in Hindi ( आयोजन की प्रक्रिया )

Identifying the Work

Organizing process का सबसे पहला चरण काम को Identify करना होता है। ये पता होना चाहिए क्या – क्या Work करना है, कितने Task Complete करने होंगे तब जाकर हम अपने लक्ष्य तक पहुंच पाएंगे।

Division of Work

Work Identify करने के बाद उसे divide करना होता है। जैसा कि प्लान में था। work को अलग अलग manageable activities में classify किया जाता है जिससे अतिरिक्त से बचा जा सके और काम को encourage किया जा सके।

Departmentalization

काम को different activities में classify करने के बाद जो Works एक दुसरे के साथ मिलते जुलते हो। उनको एक Department को देना चाहिए ऐसे ही कई Department बनाये जाते है।

Assignment of Duties

Departments बनाने के बाद employees को manager जिसे department manager कहते है उसकी निगरानी में अलग अलग department में काम दिया जाता है। Employees को अपनी skills, qualifications और competencies के हिसाब से jobs दिए जाते है। Performance की effectiveness के लिए manager को ये ensure करना चाहिए की job और incumbent में proper match हो रहा है की नही।

Establishment of organizational hierarchy

जब Work Deployment होता है , तो अब अगला Step है। Report लेना या Employees किसे Report दे रहे है ये चेक करना। सभी व्यक्तिगत कर्मचारियों के लिए Reporting सम्बन्ध स्थापित करना है।

Provision of resources to the members

ये रोज Check करना आवश्यक है की resource का arrangement है। और deployment अच्छे से हो रहा है जैसे की money, materials, supplies, and machine, etc.

Coordination of efforts and scheduling of activities

Organizing का आखिरी पड़ाव है coordination के efforts को logical और systematic तरह से manage करना ताकि सब कुछ ठीक चले।

Advantages of Organizing in Hindi (आयोजन के फायदे )

Specialization का लाभ :  Organizing jobs के classification में काफी अधिक मदद करता है, जिसकी वजह से काम का व्यक्तियों से pressure हटाता और उन्हें पता रहता है, की उनको कितना work करना है इसके साथ ही Organizing productivity को बढ़ाने में भी मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि organization को specialization का फायदा मिलता है, जिसमे workers अपनी योग्यता के हिसाब से daily काम करते है।

Adaptation to change: organizing organization को strategies, hierarchy, relationships, etc. में changing तथा Survive करने में भी बहुत अधिक मदद करता है।

Effective utilization of resources :  Organizing function में resources का सबसे अच्छा utilization होता है चाहे वो human, material, financial or technical कुछ बनी क्यों न हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि jobs उन employees को assign किया जाता है जो overlapping और काम का duplication नही करते।

Disadvantages of Organizing in Hindi ( आयोजन के नुकसान)

Segregation: एक ऐसा department होना जिसमे employees specialized हो इसका कारण से इससे अधिक बड़े वाले department चुप हो जाएंगे। अलग team के employees को perspective शेयर करने की opportunity नही मिलती जो business को आगे ले जाने में अधिक कठिनाई को बढ़ाएगा।

Weakening of common bond: कुछ cases में manager employees से सही तरीके से बात नही करते जिससे employees demotivate हो सकते है या गलत काम कर सकते है।

Lack of coordination : एक department में कभी कभी ऐसे employees भी आ जाते है जो किसी से coordinate नही करते और अपने हिसाब से काम करते है, या दूसरो की मदद करने से पीछे हट जाते है। ऐसा करना बिल्कुल गलत है, हमेशा दूसरो के साथ coordinate करके चलना चाहिए।

 

Leave a Reply